मानवता को शर्मसार करते साधु-संत

मानवता को शर्मसार करते साधु-संत

बाबा राम रहीम सिंह- डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख, हमारे देश के कई अस्पतालों और विद्यालयों के संस्थापक, अपने जागरूकता अभियानों की सफलता से अपना नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज कराने वाले, आज जेल में बंद हैं! उनकी सज़ा 20 वर्षों की है और उन पर लगाए गए मुख्य आरोपों में से…

Continue Reading

“योग” से विश्व हो “निरोग”

“योग” से विश्व हो “निरोग”

“सिद्दध्यसिद्दध्यो समोभूत्वा समत्वंयोग उच्चते” अर्थात दुःख -सुख, लाभ-अलाभ, शत्रु-मित्र, शीत और उष्ण आदि द्वन्दों में सर्वत्र समभाव रखना ही योग है।स्पष्ट है कि योग का शारीरिक स्वास्थ्य से ज़्यादा मानसिक स्वास्थय ठीक रखने में योगदान है।कहते हैं कि स्वस्थ मस्तिष्क में ही स्वस्थ विचार उत्पन्न होते हैं और इसी में समाज की भलाई होती है।…

Continue Reading

विज्ञापन युग

विज्ञापन युग

जागते, सोते, उठते-बैठते हम विज्ञापनों से घिरे रहते हैं। सुबह के अखबार से लेकर शाम के क्रिकेट मैच तक विज्ञापन हमारा पीछा नहीं छोड़ते। राह चलते हमें तरह-तरह की ध्वनियां सुनाई पड़ती हैं- “2 सप्ताह में पाएं मलमल-सी कोमल त्वचा ‘लुहाफ’ साबुन से”; “दांतो को दूध सा सफेद बनाएं-  बिनाका टूथपेस्ट आज ही अपनाएं”। जब…

Continue Reading

नक्सलवाद की जड़ें

नक्सलवाद की जड़ें

हर नक़्सली हमले के बाद, विपक्ष, मीडिया और सभ्य समाज के कुछ ठेकेदार मानसून की पहली बारिश के बाद मेंढकों की तरह एक ही सुर में अपना कार्यक्रम आरंभ कर देते हैं- “परम विश्लेषण में, यह राज्य की शासन नीति की विफ़लता, तथा सरकार की कार्यशैली का दिवालियापन है, जो देश में बढ़ते नक्सलवाद के…

Continue Reading

बुद्धि लब्धि: आनुवंशिकता व पर्यावरण की अंत:क्रिया

बुद्धि लब्धि: आनुवंशिकता व पर्यावरण की अंत:क्रिया

मेरे घर के पास रहने वाले शर्मा जी की पुत्री ने हाल ही में बारहवीं की परीक्षा दी है। ज़्यादा भलीभाँति जानती तो नहीं हूँ मैं उसे, परन्तु सभी को उसके परीक्षा परिणाम का बड़ी ही बेसब्री से इंतज़ार है। सभी का यह मानना है कि शर्मा जी आई. आई. टी. से बी. टेक डिग्रीधारी…

Continue Reading

स्वप्नों के पीछे छुपा मनोविज्ञान

स्वप्नों के पीछे छुपा मनोविज्ञान

लगभग  तीन हफ़्ते पहले की वह रात मुझे अच्छी तरह से याद है। मध्य रात्रि का समय था, क़रीब तीन बज रहे होंगे जब एक भयानक स्वप्न ने मुझे नींद में ही विचलित कर दिया। उस स्वप्न ने मुझे इतना भयभीत कर दिया कि अनायास ही मेरी नींद टूट गयी और अपना कम्बल ज़ोर से…

Continue Reading

अनिद्रा रोग की महामारी

अनिद्रा रोग की महामारी

“आप ये कैसे साबित कर सकते हैं कि इस क्षण हम सो रहे हैं और हमारी सोच एक सपना है, या फिर हम जगे हुए हैं और इस अवस्था में एक दूसरे से बात कर रहे हैं?” इन दिनों चैन की नींद सोना बहुत कठिन हो चुका है। मेरी बहुत इच्छा होती है कि जैसे…

Continue Reading